What is Instrumentation in hindi | Jobs In instrumentation

आज हम आपको Instrumentation in hindi में बताएँगे | Instrumentation, इंजीनियरिंग की वह शाखा है जिसमे बिज्ञान के विभिन्न चरो(variables) को मापा, मॉनिटर तथा नियंत्रित किया जाता है | उसे इंस्ट्रूमेंटेशन कहते है | इन चरो(variables) को मापने तथा नियंत्रित करने के लिए भिन्न भिन्न सिधान्तो का प्रयोग किया जाता है  इन सिधान्तो का अध्यन इंस्ट्रूमेंटेशन इंजीनियरिंग में किया जाया है | instrumentation आज का सबसे ग्रोविंग क्षेत्र है | पहले सब उद्योग में मैन्युअल वर्क होता था | आज के समय में उद्योग ऑटोमेशन में बदल रहे है जिससे इंस्ट्रूमेंटेशन का स्कोप बद्ताही जा रहा है | आने बाले समय के ऑटोमेशन प्रतेक उद्योग का अभिन्न अंग होगा |

control room

इंस्ट्रूमेंटेशन के चर(Variable)

Instrumentation में बहुत से वेरिएबल होते है जिनके द्वारा उद्योग में प्रोसेस का एनालिसिस किया जाता है | कुछ चर निम्न लिखित है

प्रेशर 

प्रेशर बिज्ञान का एक चर(Variable) है , जिसको इंस्ट्रूमेंटेशन के अंतर्गत मापा जाता है | इसको मापने के लिए कई इंस्ट्रूमेंट प्रयोग किये जाते है | जैसे – प्रेशर गेज , प्रेशर ट्रांसमीटर , इत्यादि |  

ताप 

टेम्परेचर(Variable), बिज्ञान का एक चर(Variable) है जिसको इंस्ट्रूमेंटेशन के द्वारा मापा तथा नियंत्रित किया जाता है | इसको मापने के लिए ताप रेंज के अनुसार टेम्परेचर(Variable) सेंसर प्रयोग किया जाता है | जैसे – thermocouple, RTD, thermister, etc|

लेवल

लेवल बिज्ञान का एक चर(Variable) है जिसको इंस्ट्रूमेंटेशन के द्वारा मापा तथा नियंत्रित किया जाता है| इसको मापने के लिए पदार्थ की प्रॉपर्टी के अनुसार सेंसर का चयन किया जाता है | ये बिभिन्न प्रकार के आते है | जैसे – DP टाइप लेवल ट्रांसमीटर , अल्ट्रा सोनिक लेवल ट्रांसमीटर , राडार टाइप लेवल ट्रांसमीटर |

डेंसिटी

डेंसिटी, बिज्ञान का एक चर(Variable) है जिसको इंस्ट्रूमेंटेशन के द्वारा मापा तथा नियंत्रित किया जाता है|

फ्लो

फ्लो बिज्ञान का एक चार है तथा बहुत ही महत्वपूर्ण है | जिसे इंस्ट्रूमेंटेशन इंजिनियर द्वारा मापा  नियंत्रित किया जाता है | इसे द्रव की प्रॉपर्टी के आधार पर अलग अलग प्रकार के फ्लोव्मेत्र के द्वारा मापा जाता है|

वाइब्रेशन

वाइब्रेशन, बिज्ञान का एक चार है तथा बहुत ही महत्वपूर्ण है | इसको मापना तथा एक नियंत्रित रेखा से निचे रखना बहुत ही अवश्यक है | क्योकि यह रोटेटिंग इक्विपमेंट में होता है तथा मिस एलाइनमेंट के कारण उत्पन होते है | यदि ये नियंत्रित रेखा से अधिक हो गए तोमचिन को उखड सकते है | जिससे आस पास मानव व् आर्थिक क्षति हो सकती है | इस लिए इसको नियंत्रित करना बहुत ही अब्स्यक है |

ph 

ph , विज्ञानं का एक चार है जिसे इंस्ट्रूमेंटेशन के द्वारा measure तथा नियंत्रित किया जाता है |

स्पीड

स्पीड , बिज्ञान का एक चर(Variable) है जिसे इंस्ट्रूमेंटेशन द्वारा मापा तथा नियंत्रित किया जाता है | 

Importance of Instrumentation in Hindi

राल्फ मूलर (Ralph Müller) ने 1940 में कहा था-

भौतिक विज्ञनों का इतिहास बहुत सीमा तक मापकयन्त्रों का इतिहास है और उनका बुद्धिमत्तापूर्ण उपयोग सुज्ञात है। समय-समय पर जो बड़े-बड़े सिद्धान्त और सामान्यीकरण ( generalizations) किये गये वे सफल रहे या असफल, यह इस बात पर निर्भर रहा कि मापन कितना यथार्थपूर्ण (एक्युरेट) किया गया था। कई उदाहरण हैं जिसमें नये मापनयंत्र के विकास के बिना काम को पूरा ही नहीं किया जा सकता था। कोई ऐसा साक्ष्य नहीं है कि आधुनिक मानव का मस्तिष्क प्राचीन मानव के मस्तिष्क से श्रेष्ठतर है। आधुनिक मानव के औजार अवश्य ही प्राचीन मानव के औजारों की अपेक्षा अत्यन्त श्रेष्ठ हैं।

डेविस बेयर्ड (Davis Baird) का विचार है कि द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद फ्ल्लोरिस कोहेन ने जिस “चौथे बृहद वैज्ञानिक क्रांति” की सम्भावना को देखा था उसके पीछे वैज्ञानिक मापयंत्रण का विकास ही था। यह विकास केवल रसायन विज्ञान में नहीं हुआ था बल्कि सभी विज्ञानों में हुआ था। रसायन विज्ञान के क्षेत्र में 1940 के दशक में नये मापनयंत्रण का विकास किसी वैज्ञानिक और तकनीकी क्रान्ति से कम न था। इस प्रक्रिया में परम्परागत संरचनात्मक कार्बनिक रसायन के आर्द्र-एवं-शुष्क विधियों को त्यागकर नयी विधियाँ निकाली गयीं।

डब्ल्यू ए विल्ढाक (W| A| Wildhack) ने सन 1954 में ही प्रक्रिया नियंत्रण में निहित उत्पादक एवं विध्वंसात्मक सम्भावनाओं की चर(Variable)्चा की थी। वैज्ञानिक उपकरणों का उपयोग करके प्रकृति के विभिन्न अंगों का यथार्थपूर्ण, परिशुद्ध, परीक्षणीय, पुनरावृत (reproducible) मापन की क्षमता ने संसार का एक नया स्वरूप सामने लाया है। मापयंत्रण की इस क्रान्ति ने नापने और उसके अनुसार क्रिया करने की मानव की क्षमता में मूलभूत परिवर्तन ला दिया है। इसके उदाहरण डीडीटी की मानीटरिंग, जल के प्रदूषण को मापने के लिए परा बैंगनी स्पेक्ऱॊफोटोमिति का उपयोग में स्पष्ट रूप से दिखायी देते हैं।

Work of Instrumentation in hindi

इंस्ट्रूमेंटेशन ऐसा क्षेत्र है जिसमे उद्योग के चर जैसे pressure , level, temperature, speed etc. को मापने के लिए इंस्ट्रूमेंट इनस्टॉल करना , प्रोसेस को कण्ट्रोल करने के लिए सिस्टम को लगाना व् लॉजिक लिखना तथा इसका maintenance करना |

Instrumentation के प्रमुख माप यन्त्र

मापयंत्रों के प्रसिद्ध निर्माता

  • ABB
  • Elite Instrumentação
  • Endress+Hauser
  • Honeywell
  • Metso
  • Smar Equipamentos Industriais
  • Yokogawa Electric
  • Siemens
  • Emerson
  • Invensys
  • Novus Automation
  • Vega
  • Instrumentos Lince
  • Forbmarshell

Course in instrumentation in hindi

course in instrumentation

Instrumentation  बहुत से कोर्स संचालित है जो की अलग संस्थानों से द्वारा चलाये जा रहे है | इनमे से कुछ निम्नं लिखित है

  • B.tech (Instrumentation & control engg.)
  • B.tech (Electronics & Instrumentation engg.)
  • Polytechnic Diploma in Instrumentation & control Engg.
  • Polytechnic Diploma in Electronics & Instrumentation engg.
  • Technician in Instrumentation engg.

Career in Instrumentation | Jobs in instrumentation

instrumentation jobs

Instrumentation क्षेत्र आज का सबसे ग्रोविंग क्षेत्र है साथ ही इसमें अभी प्रतियोगिता अन्य क्षेत्रो की तुलना में बहुत कम है | इसकी सीट्स काफी कम है तथा प्रतेक साल काफी कम छात्र पास होते है तथा उन्हें काफी हद तक जॉब मिल जाती है | इस क्षेत्र में जाव बड़े उपक्रमों में ज्यादा है | इसके जाव प्रदाता उपक्रम निम्न लिखित है –

सरकारी उपक्रम

  • Indian oil corporation LTD
  • BPCL
  • Gail
  • NTPC
  • Railway
  • UPRVNL
  • HPCL
  • CPCL
  • DRDO
  • ISRO
  • NFL
  • SAIL
  • BHEL

निजी उपक्रम

  • Reliance refinery
  • Bharat Oman Refinery
  • Tata Chemical
  • Chambal Fertilizer
  • Iffco Fertilizer
  • Kribhco Fertilizer
  • HURL
  • Hindalco Ferlitizer
  • India Glycols LTD
  • SRF
  • Aryan Power

Read Also 

Leave a Comment